मंच संचालन शिक्षा

गणतंत्र दिवस हिंदी सूत्रसंचालन अँकरिंग स्क्रिप्ट-Republic Day

republic day 26 january anchoring script in hindi

गणतंत्र दिवस हम भारतीयोंके लिए एक बहोत ही उत्साहवर्धक दिवस होता है. गणतंत्र दिवस २६ जनवरी के दिन हर साल स्कूल, महाविद्यालयोंमे, और सरकारी दफ़्तरोंमे बैदेही उत्साह से मनाया जाता है. इसलिए हमने इस लेखमे गणतंत्र दिवस के समारोह के लिए सूत्र संचालन तथा एंकरिंग स्क्रिप्ट दी है. हम आशा करते है की यह एंकरिंग स्क्रिप्ट आपको पसंद आएगी. तो चलिए शुरू करते है.

गणतंत्र दिन सूत्रसंचालन अँकरिंग स्क्रिप्ट- Republic Day Anchoring Script in Hindi

जय हिंद| सुप्रभात, मैं सुनील हूँ और मैं आप सभी का स्वागत करता हूँ| आज ईस सुबह हमलोग अपने ६९वें गणतंत्र दिवस का जश्न मनाने के लिए इकट्ठा हुए हैं| हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के बेशुमार बलिदानों के बाद, हमे १५ अगस्त १९४७ को स्वतंत्रता मीली और आज उनके दम पर हम यहाँ आझादि की साँस ले रहे हैं| मैं उन सभी महानुभाओंको नतमस्तक होकर सलाम करना चाहता हूँ|

उनके साथ साथ हमारे और भी नायक हैं, वो जिन्होने भारत का संविधान लिखा| संविधान प्रारीत होने के बाद ही हम “गणतंत्र देश” बने और वो दिन था २६ जनवरी १९५०| २६ जनवरी, क्या ख़ास बात हैं एस दिन की, यहीं दिन क्यों चुना गया? क्या आप जानते हैं? ईसी दिन, साल १९३० को इंडियन नॅशनल कॉंग्रेस ने “संपूर्ण स्वराज” की घोषण की थी और उसके बाद स्वतंत्रता अभियान और जोरसे आगे बढ़ा| संविधान तो कुछ हप्ते पहले ही बनके तयार हुआ था, पर वो देश के समर्पित किया गया २६ जनवरी १९५० को| ऐसा किया गया क्योंकि “संपूर्ण स्वराज” घोषणा का दिन और महिमा सबको याद रहे|

डॉ बी.आर. आंबेडकर ही देखरेख मे २८ अगस्त १९४७, एक मसौदा समिति स्ठापन हुई| आप को शायद पता नही होगा ही भारत का संविधान पूरी दुनिया मे सबसे बड़ा संविधान हैं| और ईसे बनाने मे २ साल से जादा वक्त लगा| मैं आज ईस गणतंत्र दिन के मौके पे उन सब महानुभावोंको नमन करता हूँ| आज हमारे देश मे बहोत सारी तखलिफे हैं, भ्रष्टाचार, अपराध, जाति की राजनीति, आतंकवाद और बहोत कुछ| मैं सबसे पूछना चाहता हूँ, क्या हमारे फ्रीडम फायटर्स ने यही सपना देखा था, क्या इसी के लिए अपनी प्राणो के बलिदान दिए| सोचिए| मुझे लगता हैं “नही”| Republic Day Anchoring Script in English

हम भारत वासियों के पास प्रतिभा हैं, जोश है, बस हमे एकजुट होने की ज़रूरत हैं| ईस गणतंत्र दिन के मौके पे मैं सबको आवाहन करता हू की, चलो सब कुछ भूला कर, एक नया स्वस्थ, खुशहाल देश बनाते है|

और ईसी संदेश पे मैं अपना भाषण समाप्त करता हूँ | जय हिंद, जय भारत|

अगर आपको यह गणतंत्र दिवस, २६ जनवरी का सूत्र संचालन तथा एंकरिंग स्क्रिप्ट पसंद आया हो तो कृपया कमेंट में अपना अभिप्राय दे.

About the author

Ajay Chavan

"Cut from a different cloth"
I believe words have the power to change the world. So, here I am, determined to change the world and leave my mark on it, one word at a time.
A writer, amateur poet, ardent dog lover, Sanskrit & Urdu enthusiast, and a seeker of Hiraeth.

Leave a Comment