१० पंक्तियाँ शिक्षा

प्रदूषण पर १० वाक्य हिन्दी मे- 10, 15 Lines on Pollution

pradushan par 10 15 lines panktiya hindi me

भारत कदम-कदम पर प्रगति की ओर बढ़ रहा है, लेकिन पर्यावरण की हानि करते हुए, यह गलत है। हम पेड़ों को काट रहे हैं, सडकोंपे प्लास्टिक फेंक रहे हैं, कारखाने नदियों और आकाश में अपने खतरनाक कचरे को खाली कर रहें है। हम बेलगाम तरीकेसे पर्यावरण को प्रदूषित कर रहे हैं। मनुष्य ऐसे वातावरण में लंबे समय तक जीवित नहीं रह सकता है। रसायन गैसें, विषाक्त पदार्थ हमें बीमार कर देंगे और जीवन के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं। बच्चों को इस वास्तविकता से अवगत कराने के लिए और उन्हें जिम्मेदार नागरिक बनाने की नीव रखने के लिए शिक्षक इस विषय पर असाइनमेंट देतें है।

स्कूलसे बच्चों को विभिन्न प्रकार के होमवर्क मिलते हैं जैसे ५ से १० लाइन्स का निबंध, लघु भाषण या अनुच्छेद लेखन। तो यहां शुरुआत में, हमने lkg, ukg बच्चों के लिए ५ सरल लाइनें दी हैं। फिर हमने कक्षा १,२,३,४ छात्रों के लिए हिंदी में प्रदूषण पर १० लाइन्स दी हैं। अगले भाग में, आपको प्रदुषण विषय पर १५ से २० पंक्तियों का लघु निबंध मिलेगा, यह कक्षा ५,६,७,८ के छात्रों के लिए अच्छा है। हम पहले से ही इस तरह के सामान्य होमवर्क विषयों पर लेख लिख चुके हैं, यहां लिंक दी हैं – मेरे स्कूल पर १० लाइनें, मेरा सबसे अच्छा दोस्त, मेरे पिता, आदि के बारे में १० वाक्य।

प्रदूषण के बारे में ५ वाक्य, पंक्तियां हिंदी में

  1. प्रदूषण मानव स्वास्थ्य के लिए बुरा है।
  2. यह जानवरों, पक्षियों, मछलियों के लिए भी खतरनाक है।
  3. हम प्रदूषण की वजह से बीमार पड़ते हैं।
  4. हमें अब प्रदूषण पर अंकुश लगाने की जरूरत है।
  5. नहीं तो हम इसे भविष्य में इसे रोक नहीं पाएंगे।
  6. सरकार के साथ हम सभी को कुछ न कुछ करने की जरूरत है।
  7. आओ हम एक प्रतिज्ञा लेते हैं,
  8. हम पेड़ों को बचाएंगे, प्लास्टिक को टालेंगे, सार्वजनिक स्थानों को साफ करेंगे।

10 Lines On Pradushan in Hindi for class 1,2,3 Students

  1. हमारे शहर में बहुत खराब वायु प्रदूषण है।
  2. जब हम सुबह स्कूल जाते हैं, तो हम सड़कपार कुछ भी नहीं देख पातें हैं।
  3. हमारे विज्ञान अध्यापक ने समझाया कि इसे स्मॉग कहा जाता है, यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बुरा होता है।
  4. हमारे शहर में २ नदियाँ हैं, दोनों नदियां बुरी तरह से प्रदूषित हैं।
  5. नदी के पानी की गटर जैसे बदबू आती है और पूरा पानी काले रंग का दिखता है|
  6. सड़क के किनारे और नदियोंमें बहुत अधिक कचरा और प्लास्टिक है।
  7. मुझे शिमला शहर बहुत पसंद है, वहां हवा और नदियां बहुत साफ हैं।
  8. हमें अपनी बुरी आदतों को बदलने की जरूरत है, अन्यथा हमारे शहर कूड़ेदान की तरह दिखेंगे।
  9. हमें स्कूल, सड़कों और सार्वजनिक स्थानों पे कूड़ा नहीं करना चाहिए।
  10. हमें घर पर गीला और शुष्क कचरा अलग करना चाहिए।
  11. मैं अपने शहर और राष्ट्र को स्वच्छ बनाने में मदद करना चाहता हूं।
  12. मैं अपने शहर को भारत के सबसे स्वच्छ शहर के रूप में देखने का सपना देखता हूं।

15, 20 Lines Short Essay on Pollution for Class 4,5,6 Students

हर दिन हमारे शहर अधिक से अधिक प्रदूषित हो रहे हैं। हमारा शहर एक बड़े कूड़ेदान में बदल रहा है| हम हर नुक्कड़,चौराहे और कोने में कचरा, प्लास्टिक देखते हैं| लोग सड़कों पर थूकते हैं, प्लास्टिक की थैली, रैपर और कारों से कैन्स फेंक देते हैं। हमारे पास कोई अनुशासन नहीं है, हम हमारे अपने हाथों से हमारे पर्यावरण और हमारे शहर को बर्बाद कर रहे हैं।

केमिकल उद्योग हवा में खतरनाक धुआं छोड़ते हैं, कारोंसे जहरीली धुएं का उत्सर्जन होता है। कारखाने नदी या समुद्र में अपने जैव और रासायनिक अपशिष्ट का निर्वहन करतें है| शहर और गांव के नाले नदियों में खाली किये जाते हैं। ये सभी दुर्भाग्यवश गतिविधियां भारत में बड़े पैमाने पर होती हैं|

इस परेशानी से निपटने के लिए भारत सरकार को उचित आधारभूत संरचना, नियम, नीतियों और कार्यों को स्थापित करने की जरूरत है। इसके साथ ही हमें अपनी बुरी आदतों को बदलने की भी जरूरत है |इन समस्याओं को हल करने के लिए सरकार और नागरिकों को मिलकर काम करना है।

हमें स्वच्छ भारत अभियान का समर्थन करना चाहिए| स्कूल के छात्रों के रूप में, हमें इस अभियान की सफलता में हमारी क्षमता में सब कुछ करना चाहिए। हम स्वच्छता के महत्व का सन्देश फैलाने में सोशल मीडिया का उपयोग कर सकते हैं।हम स्वच्छ भारत अभियान गतिविधियों में भाग ले सकते हैं

हम स्कूल के छात्रों को एक प्रतिज्ञा लेनी चाहिए कि हम वयस्कों की तरह गैर जिम्मेदारियों से व्यवहार नहीं करेंगे| वे स्वच्छ वातावरण के लिए कुछ भी नहीं करते हैं और न ही उन्होंने हमें इसके बारे में कुछ भी सिखाया है। हम, नई पीढ़ी को पहल करनी चाहिए| आइए प्रतिज्ञा लेते हैं कि हम सब हमारे प्यारे देश के जिम्मेदार, अनुशासित नागरिक बने।

यह निबंध ५,६,७,८,९,१० वर्ग के छात्रों के लिए लिखा है। १० प्लस लाइनों का यह निबंध , भाषण आपको पसंद आया हो तो, निचे कमेंट करना न भूलें|

About the author

Ajay Chavan

"Cut from a different cloth"
I believe words have the power to change the world. So, here I am, determined to change the world and leave my mark on it, one word at a time.
A writer, amateur poet, ardent dog lover, Sanskrit & Urdu enthusiast, and a seeker of Hiraeth.

Leave a Comment