१० पंक्तियाँ शिक्षा

मेरी पाठशाला, स्कूल १० पंक्तियाँ, लघु निबंध हिंदी में My School in Hindi

10,15 lines pnaktiya hindi my school pathshala

मेरी पाठशाला, यह एक हमेशा पूछने जानेवाला निबंध और भाषण का विषय है| ज्यादातर यह विषय निचली कक्षा के विद्यार्थियोंको पूछा जाता है; कभी निबंध, भाषण प्रतियोगिता में तो कभी होमवर्क के लिए| हमने यह विषय यहां दो हिस्सों में बांटा है| पहले सेक्शन में आपको मेरी पाठशाला विषय पर १० पंक्तियाँ मिलेंगी| यह १,२,३,४ के विद्यार्थियोंको के लिए अनुरूप होंगी| अगले सेक्शन में आपको २५ से ३० लाइन्स का लघु निबंध मिलेगा, यह क्लास ५,६,७ के विद्यार्थियोंको के लिए अच्छा रहेगा| इस निबंध के रूप में लिखी हुई जानकारी का उपयोग आप भाषण के लिए भी कर सकतें है| हमने यहां स्कूल, पाठशाला, विद्यालय जैसे समानार्थी शब्दोंका उपयोग किया है| आप अपनी जरूरत के नुसार से कोई एक शब्द चून सकतें है|

मेरी पाठशाला विषय पर १० पंक्तियां/वाक्य- 10 Lines on My School

मेरी पाठशाला का नाम दिल्ली केंद्रीय विद्यालय है|
मेरा स्कूल मेरे घर से ३ किलोमीटर की दूरी पर है|
मैं पिले रंग के बस में स्कूल जाता हूँ।
मैं तीसरी कक्षा में पढ़ता हूं, मेरा डिवीजन अ और रोल नंबर अ-०१३ है।
मेरा स्कूल दो मंजिला इमारत में है|
स्कूल भवन के सामने एक बड़ा खेल का मैदान है|
मेरी पाठशाला में १ से ५ वी तक कक्षाएं है और कुल २४० छात्र हैं|
मेरे विद्यालय का यूनिफार्म नीला और लाल है|
मेरे स्कूल के शिक्षक बहुत अच्छे हैं, वे कभी भी चिल्लाते नहीं|
हम स्कूल में रोजाना खेलते हैं।
मेरा स्कूल बहुत कम होमवर्क देता है|
मेरे स्कूल को हमेशा अच्छे रिजल्ट्स मिलते हैं।
मुझे मेरे विद्यालय बहुत पसंद है।

मेरी पाठशाला हिन्दी लघु निबंध, भाषण

मेरे स्कूल का नाम दिल्ली केंद्रीय विद्यालय है, यह मेरे घर के बहुत करीब है। मैं और मेरे दोस्त पीले मिनीवैन में स्कूल जाते हैं| मेरे स्कूल का एक बड़ा प्रवेश द्वार है, जहां २ पहरेदार चाचा बैठते है| मेरा स्कूल २ मंजिला इमारत में है और सामने बड़ा खेल का मैदान भी है| हर शनिवार को हम खेल के मैदान में जाते हैं और वहां योगा और पी.टी. की क्लास होती है|

मेरे स्कूल को हमेशा अच्छे परिणाम मिलते हैं। हमारे शिक्षक बहुत अच्छे हैं, वह कभी भी चिल्लाते नहीं हैं| वे हमें कम होमवर्क देते हैं और इसलिए मुझे अपने भाई के साथ घर पर खेलने का समय मिलता है।मेरा भाई भी मेरेही स्कूल में पढ़ता है| हम एक साथ होमवर्क करते है|  मेरा स्कूल खेलकूद में भी अव्वल आता है| इस बार हम इंटर-स्कूल फुटबॉल स्पर्धा भी जीते| प्रिंसिपल सर ने टीम की बहुत प्रशंसा भी की| हमारे स्कूल में बहुत सारे कम्प्यूटर्स भी है, मुझे कंप्यूटर सीखने में खूब रुचि है| मुझे अपने स्कूल जाना पसंद है, मुझे मेरा स्कूल बहुत पसंद है।

अगर आपको यह निबंध या भाषण अच्छा लगा तो इस लेख को अपने सुझाव, प्रतिकियाँ कमेंट सेक्शन में सांझा करे|

About the author

Ajay Chavan

"Cut from a different cloth"
I believe words have the power to change the world. So, here I am, determined to change the world and leave my mark on it, one word at a time.
A writer, amateur poet, ardent dog lover, Sanskrit & Urdu enthusiast, and a seeker of Hiraeth.

Leave a Comment